Sun. Apr 11th, 2021

कोरोना रिटर्न्स की दहशत में बिहार में लगी पाबंदियों से होली का रंग फीका होने के आसार

बिहार                                              

रंगों के त्‍योहार में अब दो हफ्ते से कम का वक्‍त रह गया है और कोरोना की दूसरी लहर के रफ्तार पकड़ने से इस साल होली का रंग फीका पड़ सकता है। देश में कोरोना के बढ़े मामलों ने बिहार की चिंता भी बढ़ा दी है। यही वजह है कि नीतीश सरकार  भी अलर्ट पर आ गई है। इसी को लेकर कल क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की भी बैठक हुई है। बैठक में यह फैसला लिया गया है कि सार्वजनिक जगहों पर होली मिलन समारोह आयोजित नहीं किए जाएंगे। होली मिलन समारोह के ऊपर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। होली पर्व के दौरान सरकार ने लोगों से एहतियात बरतने की सलाह भी दी है। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने  कोरोना के बढ़ते आंकड़े को देखते हुए अपने विभाग के प्रधान सचिव सहित अधिकारियों को कोरोना की जांच  बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।जहां लोग ज्यादा आते हैं जैसे बस स्टैंड, रेलवे स्टैंड ऐसी जगहों पर रैंडम टेस्ट करवाए जाने के निर्देश दिए गए हैं।साथ ही रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, बस स्टैंड पर बाहर से आने वालों की भी जांच होगी। कंटेनमेंट जोन बनाने, इलाज की पुख्ता तैयारी रखने जैसे तमाम निर्देश दिए गए हैं। लोगों से भी भीड़भाड़ वाली जगहों पर नहीं जाने की सलाह दी जा रही है। बाहर से आने वालों से जांच कराने, मास्क पहनने और हाथ धोते रहने संबंधित बचाव के उपाय अपनाने की अपील की गई है। पटना की सिविल सर्जन विभा सिंह ने मीडिया को बताया कि होली को देखते हुए रेलवे प्रशासन और एयरपोर्ट ऑथोरिटी से स्वास्थ्य विभाग संपर्क में है। कोरोना प्रभावित राज्यों से आने वाली ट्रेनों और हवाई जहाजों की लिस्ट के साथ उनका टाइम-टेबल भी मांगा गया है । होली के मौके पर बड़ी संख्या में लोग दूसरे राज्यों से बिहार पहुंचते हैं। यहां पहुंचने वाले सभी यात्रियों की रेलवे स्टेशनों, बस स्टैंड और एयरपोर्ट पर ही रैंडम कोरोना जांच की जाएगी। जिस भी राज्य से पहुंचने वाले यात्री ज्यादा संख्या में संक्रमित मिलेंगे, उन ट्रेनों पर खास नजर रखी जाएगी। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की  बैठक में स्कूलों को फिर बंद करने का फैसला भी लिया जा सकता है।


N M desk


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *