Sat. Jan 23rd, 2021

कोरोना से उबरते भारत मे बर्ड फ्लू की दस्तक

नई दिल्ली                               

कोविड 19  महामारी के  खतरे से उबरने की कोशिश करते भारत मे बर्ड फ्लू की आहट ने सरकार सहित जनता की नींदें भी उड़ा दी है। राजस्थान, केरल, मध्य प्रदेश के बाद अब हिमाचल प्रदेश और पंजाब में भी इसके कई मामले सामने आए हैं। बिहार, झारखंड, उत्तराखंड और कर्नाटक के अलावा उत्तर प्रदेश में भी अलर्ट जारी किया गया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य विभाग और पशुपालन विभाग को राज्य में पूरी तरह सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं।

बर्ड फ्लू को एवियन इनफ्लुएंजा वायरस भी कहते हैं। बर्ड फ्लू के सबसे कॉमन वायरस का नाम H5N1 है। यह एक खतरनाक वायरस है जो चिड़ियों के साथ इंसान और दूसरे जानवरों को भी संक्रमित कर सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुताबिक, H5N1 को 1997 में खोजा गया था। इस वायरस से संक्रमित होने पर 60% मामलों में मौत हो जाती है। एवियन इंफ्लूएंजा वायरस से होने वाली इस बीमारी को पक्षियों के लिए ही नहीं इंसानों के लिए भी घातक बताया जा रहा है। बर्ड फ्लू के बढ़ते मामलों को देखते हुए कई राज्यों में पक्षियों को मारने का अभियान भी शुरू हो चुका है। यह बीमारी संक्रमित पक्षियों के संपर्क में आने वाले अन्य पक्षियों, जानवरों और इंसानों में फैल सकती है।WHO के मुताबिक, आमतौर पर यह वायरस इंसान को संक्रमित नहीं करता लेकिन कुछ देशों में ऐसे मामले सामने आए हैं जिनसे संक्रमण इंसानों में फैला है। इसका वायरस आमतौर पर पानी में रहने वाली बत्तखों में पाया जाता है । राजस्थान, मध्य प्रदेश, झारखंड, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश में इस वायरस को लेकर अलर्ट (Bird flu outbreak) जारी कर दिया गया है. पोल्ट्री फार्म, जलाशयों और प्रवासी पक्षियों पर विशेष निगरानी रखने को कहा गया है. साथ ही संक्रमण फैलने वाली जगहों पर मांस बेचने पर भी प्रतिबंध लगाया जा रहा है.देश भर में 10 दिन में 4.84 लाख 775 पक्षियों की मौत हो चुकी है. 4 राज्यों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है. ऐसे में केंद्र सरकार ने दिल्ली में कंट्रोल रूम बनाया है, जो राज्यों के साथ संपर्क में रहेगा. राजस्थान, मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश , केरल ,हरियाणा में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है. हरियाणा में 10 दिन में 4 लाख मुर्गियों की मौत हो चुकी।गुजरात के जूनागढ़ जिले के बांटवा गांव में 2 जनवरी को बतख-टिटहरी-बगुला समेत 53 पक्षी मृत पाए गए। इनकी जांच की जा रही है। गुजरात के प्रिंसिपल चीफ कंजर्वेटर ऑफ फॉरेस्ट (वाइल्ड लाइफ) श्यामल टीकादार के अनुसार कि बर्ड फ्लू की आशंका है।

दिल्ली अलर्ट पर है , केंद्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह कहते हैं कि चिकन और अंडे को लेकर डरने की कोई जरूरत नहीं है. इन्हें अच्छी तरह से उबालकर खा सकते हैं. सरकार का मानना  है कि सर्दियों में आए प्रवासी पक्षियों की वजह से ये बीमारी फैली है…बर्ड फ्लू के जरिये इंसानों में संक्रमण फैलने का अभी तक कोई मामला सामने नहीं आया है। गिरिराज सिंह ने कहा, ” अक्टूबर में ही सभी राज्यों को एडवाइजरी जारी कर दिया गया था. सरकार ने कंट्रोल रूम भी बना दिया है. अभी तक कोई ऐसी रिपोर्ट नहीं है जिसमें ये संक्रमण इंसानों में आया हो. करीब सात-आठ राज्यों में इसकी दस्तक है. सबसे ज्यादा केरल प्रभावित है जहां बत्तखों पर इसका प्रभाव हुआ है.।

क्या है बर्ड फ्लू?

  • बर्ड फ्लू की बीमारी एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस H5N1 की वजह से होती है
  •  एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस पक्षियों और इंसानों को अपना शिकार बनाता है
  •  मुर्गी, टर्की, गीस, मोर और बत्तख जैसे पक्षियों में बर्ड फ्लू तेजी से फैलता है
  • इन्फ्लूएंजा वायरस के प्रभाव से इंसान और पक्षियों की मौत तक हो सकती
  • एवियन फ्लू को अक्सर बर्ड फ्लू कहा जाता है, जिसके कारण पक्षियों में रेस्पिरेटरी बीमारी हो जाती है

बर्ड फ्लू के लक्षण

लगातार कफ रहना , नाक बहना , सिर दर्द रहना, गले में सूजन , मांसपेशियों में दर्द, दस्त , हर वक्‍त उल्‍टी  महसूस होना , पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना,  सांस लेने में समस्या के साथ निमोनिया हो सकता है , कंजंक्टिवाइटिस (आंख का इंफेक्शन)।

बर्ड फ्लू से कैसे बचें?

संक्रमित पक्षियों से दूर रहें , आपके एरिया में बर्ड फ्लू का संक्रमण है तो नॉनवेज से परहेज करें , साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें, मास्क पहनें




News mandi desk


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *