Thu. Aug 18th, 2022

नेपाल ने बिहार के मोतिहारी की जमीन पर किया दावा, बांध के काम को रुकवाया

 बिहार                                                

मोतिहारी- भारत और चीन  के सीमा विवाद के के बीच अब नेपाल भी अपनी आंखें दिखाने लगा है। नेपाल ने बिहार में पूर्वी चंपारण  जिले की जमीन पर अपना दावा ठोकते हुए जिले के ढाका ब्लॉक में लाल बकैया नदी पर तटबंध निर्माण का काम  रुकवा दिया है।इस संबंध में डी.एम कपिल अशोक  ने जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया और बिहार सरकार को जानकारी देते हुए विवाद को सुलझाने का अनुरोध किया है। विदित हो कि नेपाल ने उत्ततराखंड  के तीन भारतीय क्षेत्रों को अपने नक्शे में दिखया था।उत्तराखंड के लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा पर वह अपना दावा जता रहा है। डी.एम कपिल अशोक ने कहा कि नेपाली अधिकारियों ने तटबंध के आखिरी हिस्से के निर्माण पर आपत्ति की थी जो कि सीमा के अंतिम बिंदु के पास है. इसके बाद उन्होंने नेपाल के रौतहट के अधिकारियों के साथ बातचीत भी की थी, लेकिन कुछ हल नहीं निकला। नेपाल ने दावा किया है कि निर्माण का कुछ हिस्सा उसके क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र में है. नेपाल के अनुसार, यह कथित विवादित स्थान मोतिहारी जिला मुख्यालय से लगभग 45 किमी उत्तर-पश्चिम में इंटरनेशनल बॉर्डर पर है।बिहार के जल संसाधन विभाग बहुत पहले ही तटबंध का निर्माण किया था और मानसून से पहले हर साल की तरह इसकी मरम्मती का काम शुरू ही किया था, लेकिन नेपाली अधिकारियों ने इस कार्य पर आपत्ति जताते हुए इस काम को उत्तरी छोर पर रोक दिया. सबसे खास बात ये है कि यह पहली बार है जब इस स्थान को नेपाल अपने क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र में होने का दावा कर रहा है।




News mandi desk


 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *