Sat. Oct 31st, 2020

हाथरस कांड पर चुप्पी के बाद योगी एक्शन में , पुलिस कर्मियों पर गिरी गाज ..

उत्तर प्रदेश                                

हाथरस कांड  को लेकर अब योगी आदित्यनाथ ने बड़ी कार्रवाई की है। प्राथमिक जांच रिपोर्ट के आधार पर एस.पी विक्रम वीर, डीएसपी राम शब्द, इंस्पेक्टर दिनेश कुमार वर्मा, उप निरीक्षक जगवीर सिंह तथा हेड मुर्रा महेश पाल को सस्पेंड कर दिया है । इस मामले में शुरुआत से लेकर अभी तक प्रशासनिक लापरवाही सामने आई है। विवाद थमता न देख मुख्यमंत्री कार्यालय ने सीधा हस्तक्षेप किया और डीएम-एसपी के खिलाफ विस्तृत रिपोर्ट मांगी थी। पूरे मामले में डीएम और एसपी की भूमिका को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज थे। हालांकि अभी डीएम पर कार्रवाई को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं हुई है।एसपी विक्रांत वीर की जगह एसपी शामली विनीत जयसवाल  हाथरस के नए एसपी नियुक्त किए गए है।

हाथरस के जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार की भूमिका इस केस के प्रारम्भ से ही संदेह के घेरे में रही है। डीएम पर आरोपियों को बचाने की आरोप लगते रहे है। डी.एम प्रवीण कुमार पर पीड़िता की भाभी ने आरोप लगाया था कि डीएम ने उनके ससुर से कहा है कि अगर तुम्हारी बेटी अभी कोरोना से मर जाती तो क्या तुमको मुआवजा मिल पाता?

हाथरस कांड पर दिल्ली से उत्तर प्रदेश तक हल्ला मचने के बाद भी योगी का इस मामले में अभी तक कोई ठोस कार्रवाई न करने से योगी सरकार की काफी आलोचनाएं हो रही है। अब  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने ट्वीटर अकाउंट से उन आलोचनाओं का जवाब देने की कोशिश की है जिनमें यूपी में महिलाओं की सुरक्षा को कमजोर बताया गया है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि उत्तर प्रदेश में माताओं-बहनों के सम्मान-स्वाभिमान को क्षति पहुंचाने का विचार मात्र रखने वालों का समूल नाश सुनिश्चित है. उन्होंने प्रदेश की जनता को यह भरोसा दिलाने की कोशिश की है कि महिलाओं के सम्मान और स्वाभिमान को नुकसान पहुंचाने वालों को उनकी सरकार बख्शेगी नहीं. हर हाल में उन्हें दंड मिलेगा. ये दंड ऐसा होगा जो भविष्य में उदाहरण बन जाएगा।

उत्तर प्रदेश के हाथरस कांड  को लेकर सियासत और हंगामा जारी है. कई विपक्षी पार्टियां मामले में उत्तर प्रदेश की सरकार और यूपी पुलिस के रवैये को लेकर सवाल उठा रही हैं। मीडिया को भी जाने नहीं दिया जा रहा है।पीड़ित के गांव में पुलिस ने नाकेबंदी कर दी है। गांव के लोगों को भी आईडी दिखाने के बाद ही एंट्री दी जा रही है. प्रशासन के इस रवैये से लोग नाराज हैं ।




News mandi


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *