Tue. Oct 20th, 2020

हाथरस घटना पर होगी कड़ी कार्रवाई – योगी

उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर कठघरे में है। योगी सरकार की कड़ी कार्रवाई के बाद भी अपराधी बेखौफ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं।

उत्तर प्रदेश                                   

उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर कठघरे में है। योगी सरकार की कड़ी कार्रवाई के बाद भी अपराधी बेखौफ वारदातों को अंजाम दे रहे हैं। योगी आदित्यनाथ ने हाथरस में दलित लड़की से गैंगरेप और हत्या मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है. उन्होंने अपराधियों को कड़ी से कड़ी सज़ा देने की बात भी कही है.

हाथरस की घटना से पुलिस की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में है। स्त्रियों के सम्मान का शंख फूंकते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के राज में सामूहिक बलात्कार की इस घटना में पुलिस की अमानवीयता पर योगी मौन है। बलात्कार के बाद 15 दिनों तक जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ती रही और आखिरकार मंगलवार की सुबह उसने इस दुनिया को अलविदा कह दिया। पुलिस ने मंगलवार की देर रात पीड़िता के गांव में ही उसके घर से 200 मीटर की दूरी पर ही घरवालों की गैरमौजूदगी में उसका अंतिम संस्कार कर दिया।

मरने से पहले हाथरस की निर्भया ने पुलिस को आरोपियों के नाम बताए. पुलिस ने एक-एक कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया. लेकिन पीड़िता के साथ दरिंदगी होने के बावजूद पुलिस ने गैंगरेप का मुकदमा लिखने में 9 दिन लगा दिए. उसका परिवार पुलिस से गुहार लगाता रहा लेकिन पुलिस ने 9 दिन तक रेप के मामले पर कोई कार्रवाई नहीं की।

 हाथरस में क्या हुआ था लड़की के साथ 

 हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के बूलगढ़ी गांव में 14 सितंबर की सुबह लड़की अपनी मां के साथ खेत में चारा काट रही थी. चारा काटते-काटते वो अपनी मां से थोड़ी दूरी पर जा पहुंची. इसी बीच गांव के ही चार युवक वहां पहुंचे और लड़की को उसके दुपट्टे से खींचकर बाजरे के खेत में ले गए सामूहिक बलात्कार किया। विरोध करने पर लड़की को जमकर पीटा और चारों चारों आरोपी लड़की को मरा समझकर वहां से फरार हो गए थे।

लड़की को अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया। पुलिस को सूचना दी गई। परिवार वालों के कहने के बाद भी पुलिस ने सिर्फ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया , रेप की बात नही मानी, जब घटना के 9 दिन बाद पीड़िता को होश आया और उसने आपबीती पुलिस को बताई. सभी आरोपियों की पहचान और नाम बताए. तब जाकर पुलिस ने इस मुकदमे में गैंगरेप यानी आईपीसी की धारा 376डी को जोड़ा।




News mandi desk


 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *